विष्णु ध्यान

भगवान विष्णु इस सृष्टि के पालन करता हैं,अगर कोई साधक श्रद्धा से भाव से इनकी पूजा करता है

तो वह इस लोक में,सुख,समृद्धि,के साथ साथ परलोक में विष्णु लोक को प्राप्त क्र लेता है

!भगवान विष्णु की पूजा में प्रयुक्त होने वाले मंत्रों एवं श्लोकों का संग्रह यहाँ किया जा रहा है !

विष्णु ध्यान –

ऊँ ध्ययेः सदा सवित्र मण्डल मध्यवर्ती,

नारायण सरसिजा सन सन्नि विष्टः ।

केयूरवान मकरकुण्डलवान किरीटी,

हरि हिरण्मय वपुर धृत शंख चक्रः ।।

शान्ताकारं भुजगशयनं पद्मनाभं सुरेशं,

विश्वाधारं गगनसदृशं मेधवर्णं शुभाङ्गम् ।

लक्ष्मीकान्तं कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यम्

वन्दे विष्णुं भवभयहरं सर्वलोकैकनाथम् ।।

त्रिलोक्यः पूज्यते श्रीमान सादाविजयः वर्धनः।

शांतिः कुरु गदापाणि नारायणः नमःस्तुते ।।

विष्णु ध्यान

उद्यत्कोटिदिवाकराभमनिशं शङ्खं गदां पङ्कजं

चक्रं बिभ्रतमिन्दिरावसुमतीसंशोभिपार्श्वद्वयम् ।

कोटीराङ्गदहारकुण्डलधरं पीताम्बरं कौस्तुभै-

र्दीप्तं विश्वधरं स्ववक्षसि लसच्छ्रीवत्सचिह्नं भजे ।।

शालिग्राम का ध्यान

नमोअ्स्त्वनन्ताय सहस्रमूर्तये सहस्रपादाक्षिशिरोरुबाहवे ।

सहस्रनाम्ने पुरुषाय शाश्वते सहस्रकोटियुगधारिणे नमः ।।

(Visited 23 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *