सिद्ध पीठों का वर्णन

मेघालय का जयंती शक्तिपीठ


मेघालय भारत के पूर्वी भाग में स्थित एक पर्वतीय राज्य है । गारो , खासी और जयन्तिया यहाँ की मुख्य
पहाड़ियाँ हैं । यहाँ की जयंती पहाड़ी को ही शक्तिपीठ माना जाता है। यहाँ देवीदेह की वाम जङघा का
पतन हुआ था । यह शक्तिपीठ शिलांग से ५३ किलोमीटर दूर जयन्तिया पर्वत पर वाउरभाग ग्राम में है ।
यहाँ की शक्ति ” जयंती ” और भैरव क्रमदीश्वर है ।


त्रिपुरा का त्रिपुरसुन्दरी शक्तिपीठ

त्रिपुरा भी भारत के पूर्वी भाग का एक राज्य है । यहाँ भगवती राजराजेश्वरी त्रिपुरसुन्दरी का भव्य मंदिर है
उन्हीं के नाम पर इस राज्य का नाम त्रिपुरा पड़ा । इस राज्य के राधकिशोरपुर ग्राम से लगभग ३
किलोमीटर की दूरी पर नैऋत्यकोण में पर्वत पर यह शक्तिपीठ स्थित है । यहाँ देवीदेह का दक्षिणपाद
गिरा था । यहाँ की शक्ति ” त्रिपुरसुन्दरी ” तथा भैरव , त्रिपुरेश , है ।


हरियाणा का कुरुक्षेत्र शक्तिपीठ


हरियाणा राज्य के कुरुक्षेत्र नगर में द्वेपायन सरोवर के पास यह शक्तिपीठ है । यहाँ काली माता और
स्थाणु शिव के मन्दिर बने हुए हैं । किवंदती है कि महाभारत युद्ध के पूर्व पांडवों ने विजय की कामना से
यहाँ माँ काली का पूजन और यज्ञ किया था । यहाँ देवीदेह का दक्षिण गल्फ गिरा था । यहाँ की शक्ति “
सावित्री ” और भैरव “स्थाणु ” हैं ।

(Visited 364 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *