दस महाविद्या और उनकी उपासना

दश महाविद्या के प्रादुर्भाव के विषय में पुराणों में विभन्न कथाएं उपलब्ध होती है यहां पर प्रामाणिक तथा संग्रहित जानकारियां उपासकों अथवा पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहें हैं ! अगर हमारे पाठकों के ,मन में किसी तरह कजा प्रश्न या फिर कोई जिज्ञासा,सुझाव हो तो कमेंट में जरूर लिखें या फियर आप हमसे मेल करके भी संपर्क कर सकते हैं महाविद्या प्रादुर्भाव पराम्बा माँ भगवती की दश महाविद्या प्रादुर्भाव तथा उपासना की विधियां जानने की उत्कंठा प्रत्येक साधक के

» Read more

शक्ति – सर्वस्वरूपिणी है

शक्ति – सर्वस्वरूपिणी है वेदोपनिषत पुराणेतिहासादि ग्रन्थों में सर्वत्र देवी की अखण्ड कर अपार महिमा का विवरण वर्णन पायाजाता है , जिससे स्पष्ट होता है कि शक्ति सृष्टि की मूल नाड़ी है , चेतना का प्रवाह है और सर्वव्यापी हैशक्ति की उपासना आज की उपासना नही है , वह अत्यंत प्राचीन हैं , बल्कि अनादि है । भगवत्पादश्रीशंकराचार्य जी ने ” सौन्दर्यलहरी ” में हमारा ध्यान इस और आकर्षित किया है और कहा है – ‘ शिव जबशक्ति से युक्त

» Read more

शक्तीपीठों रहस्य

शक्तीपीठ रहस्य पौराणिक कथा है कि दक्ष के यज्ञ में शिव का निमन्त्रण न् होने से उनका अपमान जानकर सती ने उस देहको योग बल से त्याग दिया और हिमालय की पुत्री पार्वती के रूप में शिव पत्नी होने का निश्चय किया । समाचारविदित होने पर शिवजी को बड़ा क्षोभ और मोह हुआ । वे दक्षयज्ञ को नष्ट करके सती के शव को लेकरघूमते रहे । सम्पूर्ण देवताओं ने या सर्वदेवमय विष्णु ने शिव के मोह की शांति एवं साधकों

» Read more

सिद्ध पीठों का वर्णन

बंगाल के शक्तिपीठ प्राचीन बंगभूमि , जिसमें वर्तमान बंगलादेश भी सम्मिलित था, परम्परागत रूप से शक्ति उपासना का विशिष्ट केंद्र रही है । दुर्गापूजा यहाँ का सबसे बड़ा उत्सव माना जाता है । इस भू ,भाग में १४ शक्तिपीठ स्थित है । इन सभी सिद्ध पीठों का वर्णन जानने के लिए आप इस पेज पर दी जान वाली जानकारी को अंत तक पढ़ें यह सिद्ध पीठ इस प्रकार है – कालिका सुप्रसिद्ध कलिका सिद्ध पीठ कोलकत्ता पूर्वी भारत का एक

» Read more

शक्तिपीठों के प्रादुर्भाव की कथा

शक्तिपीठों के प्रादुर्भाव की कथा तथा उनका परिचय भूतभावन भवानीपति भगवान शंकर जिस प्रकार प्राणियों के कल्याणार्थ विभिन्न तीर्थों में पाषणलिंगरूप में आविर्भूत हुए हैं , उसी प्रकार अनन्तकोटि ब्रह्माण्डात्मक प्रपंच की अधिष्ठानभूता ,सच्चिदानन्दरूपा , करुणामयी , भगवती भी लीलापूर्वक विभिन्न तीर्थों में भक्तों पर कृपा करने हेतु पाषाणरूप से शक्तिपीठों के रूप में विरजमान है । ये शक्तिपीठ साधकों को सिद्धि और कल्याण प्रदान करने वाले हैं । इनके प्रादुर्भाव की कथा पुण्यप्रद तथा अत्यंत रोचक है ! —

» Read more

सूर्य को अर्ध्य देने का महत्व

सूर्य को अर्ध्य देने का महत्व सूर्य के बिना पृथ्वी पर जीवन सम्भव नही है सूर्य की किरणों से ही पृथ्वी पर प्रकाश आता है यही प्रकाश मनुष्य के जीवन से अंधकार को दूर करता है और हमारे धर्म में पाँच देवताओं की आराधना का विशेष महत्व बताया गया है -गणेश, दुर्गा ,शिव ,विष्णु और सूर्य । इनमें सूर्य दैव् का विशेष महत्व है क्योंकि वही एक ऐसे देव हैं जिन्हें हम देख सकते है । सूर्य को अर्ध्य क्यों

» Read more

भगवान शिव का ध्यान

ध्यानं वन्देअ्हं सकलं कलंक-रोहितं स्थाणोर्मुखं पश्चिमम् । शुभं त्रिलोचनं नाम्ना सद्योजातं शिव पदम् ।। वामदेवं सुवर्णाभं दिव्यास्त्रगण सेवितम् । अजन्मानमुमाकान्तं वन्देअ्हं हि उत्तरं मुखम् ।। बालकं वर्णमारक्तं पुरुषं च तडित्प्रभम् । दिव्यं पिङ्गजटाधारं वन्देअ्हं पूर्वादिक मुखम् ।। मधयाण्हार्क समप्रभं शशिधरं भीमाट्टहासोज्जवलं, त्र्यक्षं पन्नगभूषणं शिखि शिखाश्मश्रु स्फुरन्मूर्धजम् । हस्ताब्जैः त्रिशिखं समुदगरमसिं शक्तिं दधानं विभुं दंष्ट्राभीम चतुर्मुखं पशुपतिं दिव्यास्त्र रूपं शंकरं स्मरेत ।। अर्थात् – जिनकी प्रभा मध्याण्ह सूर्य के समान दिव्य रूप में मासित हो रही है जिनके मस्तक पर चन्द्रमा

» Read more

भगवान गणेश की अग्र पूजा क्यों

प्रथम पूजन क्यों हमारी संस्कृति में किसी भी कार्य को करने से पहले या किसी भी उत्सव को मनाने से पहले गणेश जी की पूजा की जाती है । शास्त्रों के अनुसार सबसे पहले गणेश जी की पूजा की जाए तो हर काम में सफलता प्राप्त होती है । किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले आखिर क्यों गणेश जी का ही पूजन किया जाता है,गणेश जी को विघ्नहर्ता कहा जाता है गणेश जी सभी विघ्नों को हरने बाले

» Read more

ऋण हर्ता मंगल स्तोत्र

मंगल साधना “साध्यते अनेन इति साधना”प्रत्येक साधक जो सनातन परम्परा से जुड़ा हुआ है,वह किसी न किसी ईष्ट साधना में अवश्य लगा रहता है!जब कोई साधक अपनी इन्द्रियों को संयम में रख कर नित्य अपने ईष्ट के ध्यान में लगा रहता है तथा मन में अभीष्ट वर प्राप्ति का लक्ष्य लिए रहता है ऐसी स्थिति को साधना कहा जा सकता है,यद्यपि यह शब्द साधना के विषय में बहुत कम हैं फिर भी समझने के लिए इतना ही पर्याप्त है की

» Read more

प्रातः स्मरण

पुण्य श्लोकों का स्मरण– पुण्यश्लोको नलो राजा पुण्यश्लोको जनार्दनः । पुण्यश्लोको च वैदेही पुण्यश्लोको युधिष्ठिरः।। अश्वत्थामा बलिर्व्यासो हनूमांश्च विभीषणः । कृपः परशुरामश्च सप्तैते चिरजीविनः।। सप्तैतान् संस्मरेन्नित्यं मार्कण्डेयमथाष्टमम् । जीवेद् वर्षशतं साग्रमपमृत्युविवर्जितः ।। कर्कोटकस्य नागस्य दमयन्त्या नलस्य च । ऋतुपर्णस्य राजर्षेः कीर्तनं कलिनाशनम् ।। प्रह्लादनारदपराशरपुण्डरीकव्यासाम्बरीष- -शुकशौनकभीष्मदाल्भ्यान् । रुक्माङ्गदार्जुनवसिष्ठविभीषणादीन्- पुण्यानिमान् परमभागवतान् नमामि ।। पुण्य श्लोक धर्मो विवर्धति युधिष्ठिरकीर्तनेन पापं प्रणश्यति वृकोदरकीर्तनेन । शत्रुर्विनश्यति धनंजयकीर्तनेन माद्रीसुतौ कथयतां न भवन्ति रोगाः।। वाराणस्यां भैरवो देवः संसारभयनाशनः । अनेकजन्मकृतं पापं स्मरणेन विनश्यति ।। वाराणस्यां पूर्वभागे व्यासो

» Read more
1 2 3