गणेश ध्यान

श्री सिद्धि विनायको विजयतेतराम, गणेश भगवान शिव तथा माँ पार्वती के पुत्र हैं,जिनकी पूजा सभी कार्यों में सबसे पहले की जाती है,गणेश जी का पूजन सभी प्रकार के विघ्नों को नाश करने के लिए तथा अविघ्नता पूर्वक अपने कार्य की सिद्धि के लिए किया जाता है,साथ ही भगवान गणेश बुद्धि के दाता हैं उनकी पूजा स्तुति,एवं आराधना से तीव्र बुद्धि की भी प्राप्ति होती है !तो आईये जानते है भगवान गणेश जी के उन मंत्रों,स्तुतियों को जिनसे गणेश भगवान शीघ्र

» Read more

महालक्ष्मी ध्यान

माँ लक्ष्मी की पूजा सांसारिक धन जैसे वाहन भूमि पुत्र,घर,इत्यादि सुखों के लिए विजयादशमी या दीपावली के दिन की जाती है !जिनके ऊपर माँ लक्ष्मी की कृपा दृष्टि हो जाती है वह धनं धन्य से भरपूर हो जाता है तथा शत्रु उसका कुछ भी नहीं बिगड़ पाते हैं,तो आइये जानते हैं माँ लक्ष्मी की उन स्तुतियों को जिनसे माता शीघ्र प्रशन्न हो जाती है ! लक्ष्मी माता का ध्यान लक्ष्मी ध्यान मंत्र या सा पद्मासनस्था विपुल-कटि-तटि पद्म -पत्रायताक्षी, गम्भीरार्तव-नाभिः स्तन

» Read more

काली ध्यान

काली माता

माँ काली ध्यान खडगम् चक्रगदेषु चापपरिघांछूलं भुशुणडीं शिरः शखं संदधतीं करैस्त्रिनयनां सर्वांगभूषावृताम् । नीलाश्मद्युतिमास्यपाददशकां सेवे महाकालिकां यामस्तौत्स्वपिते हरौ कमलजो हन्तुं मधुं कैटभम्!! भगवान विष्णु के सो जाने पर में और कैटभ को मारने के लिए कमलजन्मा ब्रहमा जी ने जिनका स्तवन किया था उन महाकाली देवी का मै सेवन करता हूँ। वे अपने दस हाथों में खड्ग चक्र गदा बाण धनुष परिघ शूल भूशुण्डि मस्तक और शंख धारण करती है उनके तीन नेत्र हैं वे समस्त अगों में दिव्य आभूषणों

» Read more
1 2